क्रेडिट कार्ड क्या होता है

क्रेडिट कार्ड क्या है – कैसे मिलेगा -बेनिफ़िट और नुक़सान

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

दोस्तों क्रेडिट कार्ड क्या है, यह एक ऐसा सवाल है जो हर एक नए व्यक्ति जो क्रेडिट कार्ड लेने की सोच रहा है के दिमाग़ में होता है, तो आइए क्रेडिट कार्ड क्या होता है, कैसे मिलेगा, कैसे manage करना है, फ़ायदे और नुक़सान सब के बारे में डिटेल में जानते हैं

जैसा की नाम से ही ज़ाहिर होता है, credit मतलब loan या उधारी। तो क्रेडिट कार्ड एक ऐसा कार्ड है जो आपका एक लोन है, मगर यह लोन आपको आपके शॉपिंग और सर्विसेज़ के लिए दिया गया है।क्रेडिट कार्ड आपको बैंक द्वारा plastic card के फ़ॉर्म में दिया गया एक लोन है जिसका  उपयोग आप शॉपिंग,services – जैसे की बिजली का बिल pay करना, flight ticket बुक करना के लिए कर सकते है। शॉपिंग भी आप online या offline दोनो ढंग से कर सकते हैं। emergency में आप ATM की तरह भी क्रेडिट कार्ड का use कर सकते है, cash withdrawal के लिए।

आपको आपका बैंक जो क्रेडिट कार्ड देता है, उसका एक क्रेडिट लिमिट होता है,उस लिमिट तक किए गए आपके ख़र्च को आपका बैंक vendor या दुकानदार को pay कर देता है, और आप वापस अपने बैंक को बिलिंग cycle के अनुसार due डेट पर भुगतान कर देते हैं, बिना कोई extra चार्ज के, लेकिन अगर आपने टाइम पर पूरा amount का पेमेंट नहीं किया तो बैंक आपसे कई प्रकार के चार्जेज़ लेता है। आपको आपके बैंक के अनुसार 45 से 55 दिन का interest फ़्री टाइम होता है अपना पूरा amount जो आपने ख़र्च किया है को pay करने के लिए।

आइए क्रेडिट कार्ड क्या होता है, इसको आसान भाषा में समझते है- (credit card meaning in Hindi)

आप अक्सर अपने घर के आस पास के कुछ दुकान में जाते होंगे अपने रोज़ मर्रा की ज़रूरत के सामान के लिए, और आपका उसके पास एक उधारी खाता चलता है,मतलब आपके ऊपर उस दुकान वाले को भरोसा है, मतलब आप उस दुकानदार की नज़र में एक कमाऊ, ज़िम्मेदार और अच्छा आदमी हैं जो ज़िम्मेदारी से पैसे ख़र्च करता है और टाइम पर पैसे वापस करता है, और वो आपको महीने भर समान देता रहता है, और महीने के अंत में या अगले महीने के शुरुआत में आपका हिसाब कर देता है। उसके बाद आप 2-4 दिन के अंदर उस दुकानदार का पूरा पैसा चुकता कर देते है। फिर यह cycle ऐसे ही चलता रहता है।

आपका दुकानदार आपके income के अनुसार ही आपको क्रेडिट या उधारी देता है, हो सकता है आपको वह दुकानदार 5000 तक का क्रेडिट देता होगा, वही किसी दूसरे को 10000 का देता होगा, या फिर किसी व्यक्ति को बिलकुल भी क्रेडिट नहीं देता होगा। कोई व्यक्ति उस दुकानदार को उसका पैसा कितना टाइम पर देता है उसके अनुसार दुकानदार आपका क्रेडिट या उधारी की सीमा बढ़ा भी सकता है।

यही सब कुछ क्रेडिट कार्ड में भी होता है, जहाँ आप महीने भर अपने कार्ड से शॉपिंग करते हैं, और महीने भर के बाद आपका बैंक जिसने आपको क्रेडिट कार्ड दिया है, आपका महीने भर का पूरा calculation कर देता है, और आपका calculation के बाद 15 से 20 दिन का टाइम मिलता अपना टोटल बिल clear करने के लिए। सही ढंग से टाइम पर पूरा payment करने से आपका कार्ड provider बैंक आपका limit बढ़ा भी देता है।

क्रेडिट कार्ड क्या है

क्रेडिट कार्ड किसको  मिल सकता है?

अगर आप salaried person हैं, या आपका कोई business है जिसका आप income tax फ़ाइल करते हैं, तो आप क्रेडिट कार्ड के लिए apply कर सकते हैं, या बैंक भी आपको approach कर सकता है, अगर आपका क्रेडिट profile बहुत अच्छा है तो।

 

कितने का credit limit मिल सकता है?

आपको आपका बैंक कितने का क्रेडिट लिमिट देगा ये आपके सैलरी या फिर आपने कितने का income tax फ़ाइल किया है पर depend करता है। generally आपके monthly सैलरी के ३ गुना क्रेडिट limit आपको आपका बैंक देता है। अगर आप कोई business करते हैं तो आपके सालाना income को देखकर आपका बैंक आपको limit देगा।

कुछ cases में जहाँ आप ऐसा business करते हैं जो income tax के दायरे में नहीं आता है, या फिर आप स्टूडेंट हैं, तो भी आप क्रेडिट कार्ड ले सकते हैं, मगर इस case में बैंक आपको एक fixed deposit करने बोलेगा। जिसके against बैंक आपको क्रेडिट कार्ड देगा, और आपका credit limit fixed deposit का 80 percent से 90 percent होगा।

क्रेडिट कार्ड का सालाना चार्ज कितना होता है?

सारे banks जो क्रेडिट कार्ड ऑफ़र करते हैं, सबका कुछ ना कुछ सालाना चार्ज होता है। क्रेडिट कार्ड choose करने से पहले दो type के charge जो कार्ड पर लगते हैं आपको जान लेना चाहिए-

  1. Joining Fees
  2. Yearly  Fees

Joining फ़ीस 500 रुपये से लेकर 1999 रुपये तक हो सकता है,मगर बहुत सारे कार्ड के टाइप होते हैं बैंक के पास, जिनमे joining चार्जेज़ अलग अलग होते है।और आप थोड़ा सा ध्यान देंगे तो  आसानी से यह one टाइम चार्ज बचा लेंगे। सारे banks joining फ़ीस माफ़ करने का ऑफ़र देते रहते हैं।

Yearly फ़ीस भी 500 से लेकर 9999 सालाना तक  हो सकता है, आप yearly चार्ज क्या लगेगा, अपने बैंक से ज़रूर clear कर लें। बहुत सारे कार्ड पर ऑफ़र होता है की आप एक certain amount कार्ड पर ख़र्च करने से अपना yearly चार्ज बचा सकते हैं, सो इन दोनो चार्जेज़ के बारे में पूरी जानकारी लेकर आप अपना बहुत सारा पैसा बचा सकते हैं, क्योंकि सही जानकारी के बाद ही आप जान पाएँगे की आपके लिए सही कार्ड कौन सा है।

क्रेडिट कार्ड लेना चाहिए या नहीं ?

क्रेडिट कार्ड जैसा की आप समझ पा रहे है, आपके महीने भर के लगभग सारे ख़र्च को चला देगा- जैसे की grocery, medicines, traveling, child education एंड अधर expenses- और क्रेडिट कार्ड उसे करने पर आपके रेवॉर्ड पॉंट्स भी मिलता है, जिनको आप कैश में कन्वर्ट कर सकते हैं। लेकिन क्रेडिट कार्ड का बहुत सारा नुक़सान भी हो सकता है, जैसे की बिना ज़रूरी का ज़्यादा ख़र्च होना और सबसे बड़ा नुक़सान तब होता है जब आप कार्ड के due date पर पूरा amount clear नहीं करते हैं। banks जो interest चार्ज करता है आपसे अगर आपने अपने कार्ड का पूरा amount पे नहीं किया time पर वो बहुत ज़्यादा हाई होता है। कुछ cases में यह 40 percent yearly तक भी चला जाता है, fine और जीएसटी वगैरह मिलाकर।

सो अगर आप क्रेडिट कार्ड ले रहे हैं तो सोच समझ कर ले और उससे भी ज़्यादा समझदारी से उसका use करे, और sure करे की आप पूरा dues टाइम पर pay कर रहे है। इसलिए क्रेडिट कार्ड क्या होता है, इस बात को क्रेडिट कार्ड लेने से पहले ही अच्छे से समझे।

इसलिए ज़रूरी है की आप क्रेडिट कार्ड के बारे में पूरी जानकारी ले – क्रेडिट कार्ड आपके लिए बहुत useful हो सकता है अगर आप पूरी जानकारी रखते है, आप मेरे इस पेज को और youtube चैनल को subscribe कर लीजिए, ताकि आप क्रेडिट कार्ड को पूरी तरह समझ सके और हज़ारों रुपए बचा सके।

क्रेडिट कार्ड के फ़ायदे

  • आज लगभग सभी जगह ऑनलाइन transactions होते हैं, इसलिए यह ज़्यादा सुबिधा जनक है।
  • बहुत सारे online transactions केवल क्रेडिट कार्ड को ही सपोर्ट करते हैं, आप अपना डेबिट कार्ड वह use नहीं कर सकते।
  • कोई भी तरह के emergency के लिए आपके पास कार्ड होता है, जो लगभग आपके सभी काम में use होगा।
  • आप अपना क्रेडिट कार्ड रेगुलर use करके reward points कमा सकते हैं, जिसको आप cashback या दूसरे useful product के लिए use कर सकते हैं, जो की आपका एक्स्ट्रा savings होगा।
  • आप अपने क्रेडिट कार्ड के द्वारा बहुत सारे offers जो online और offline दोनो तरह के शॉपिंग और सर्विसेज़ के लिए मिलता है का फ़ायदा उठा सकते हैं ।
  • क्रेडिट कार्ड सही से use करने के बाद आपका एक अच्छा क्रेडिट profile बन जाता है,जिसके कारण banks आपको आगे कोई भी लोन (होम लोन, कार लोन) लेने जाते हैं तो आसानी से दे देते है।
  • बहुत सारे banks क्रेडिट कार्ड users को instant document फ़्री personal loan भी offer करते हैं, जो आप घर बैठे एक click में अपने अकाउंट में पा सकते हैं, बैंक जाने की कोई ज़रूरत नहीं होगी।

क्रेडिट कार्ड के नुक़सान

  • सबसे बड़ा नुक़सान जो क्रेडिट कार्ड के साथ देखा गया है की यह फ़ुजुल खर्ची को बढ़ावा देता है। जिस सामान का ज़्यादा use नहीं होता है, या उस सामान को ख़रीदना अर्जेंट नहीं है, फिर भी क्रेडिट कार्ड यूज़र उसको ख़रीदते पाए जाते हैं।
  • interest रेट और फ़ाइन बहुत हाई होता है।
  • online frauds के condition में problem हो सकती है।
  • अगर आपने सही कार्ड नहीं चुना है तो भारी yearly फ़ीस भरना पर सकता है।
  • अगर आपने अपना कार्ड payment सही ढंग से नहीं किया है तो आपका पूरा credit profile (Cibil score) बर्बाद हो जाएगा, जिसके बाद आपको कोई भी other loan मिलना बहुत मुश्किल हो जाएगा।

कौन से बैंक से कार्ड ले?

लगभग सारे ही बैंक क्रेडिट कार्ड देते हैं, private और government banks – लेकिन credit limit की बात करे तो private banks आपको क्रेडिट लिमिट ज़्यादा ऑफ़र करते हैं। आप offered क्रेडिट लिमिट, joining फ़ीस और yearly fees के बारे में जानकार सही बैंक का सही टाइप का कार्ड ले सकते हैं।

SBI, ICICI, AXIS, YES BANK, CITI BANK, HDFC BANK, CENTRAL BANK, CANARA BANK, AMERICAN EXPRESS, KOTAK BANK, STANDARD CHARTERED BANK कुछ प्रमुख बैंक हैं जो क्रेडिट कार्ड offer करते हैं।

क्रेडिट कार्ड वाले बैंक कैसे पैसा कमाते हैं-

अब एक सवाल जो आप लोगों को परेशान कर सकता है की, जब क्रेडिट कार्ड वाले आपको बिना कोई interest के 45 से 55 दिन के लिए शॉपिंग और services के लिए पैसा देते है, तो बैंक वालों को क्या फ़ायदा होता है, बैंक वाले कैसे पैसा कमाते हैं। दरसल बैंक वाले निम्नलिखित तरीक़ों से आपके कार्ड के थ्रू पैसा कमाते है-

  1.  आप जो भी शॉपिंग करते हैं, उसमें से एक परत आपके दुकानदार को ना जाकर बैंक को जाता है, जैसे की आपने 100 रुपए की ख़रीदारी की तो लगभग 1 रुपए या 1.50 रुपए आपके कार्ड provider बैंक को जाता है।
  2. सालाना एक चार्ज आपके क्रेडिट कार्ड वाले आपसे लेते है, जो अगर आपने आपके कार्ड का ज़्यादा उसे किया है तो कई बार माफ़ भी कर दिया जाता है।
  3. अगर आपने अपना क्रेडिट कार्ड का बिल पेमेंट टाइम पर नहीं किया तो बैंक वाले बहुत सारा फ़ाइन और इंट्रेस्ट चार्ज करते हैं। इंट्रेस्ट राते बहुत ज़ायद हाई होता है, लगभग 30 से 40 percent yearly, जो की personal लोन से भी बहुत ज़्यादा है।

कौन सा क्रेडिट कार्ड लेना अभी आपके लिए ज़्यादा फ़ायदेमेंद हो सकता है, तो इस topic को मई अलग से डिटेल में discuss करने वाला हूँ, – click here

आसान भाषा में क्रेडिट कार्ड को समझने के लिए आप ये video देख सकते हैं। click here

related important topics

क्रेडिट कार्ड का बिलिंग cycle क्या होता है?

क्रेडिट कार्ड due amount को emi में कैसे convert करे

क्या एक बैंक से दो क्रेडिट कार्ड मिल सकता है?

Online electricity bill payment through Credit card

1 Comment

Leave a Reply